'लॉक डाउन' की समाप्ति के बाद अपनी नई योजना के साथ धमाल मचाएंगे पीआरओ राजू कारिया - DIGITAL CINEMA

Header ads


'लॉक डाउन' की समाप्ति के बाद अपनी नई योजना के साथ धमाल मचाएंगे पीआरओ राजू कारिया


फिलवक्त एक ओर जहाँ समस्त विश्व महाभयंकर बिमारी कोरोना वायरस के कारण विचलित है और हर इंसान खुद को मुसीबत से घिरा हुआ महसूस कर रहा है वहीं दूसरी ओर लॉक डाउन की बंदिशों के बीच भारतीय फिल्म जगत के विख्यात व चर्चित पी आर ओ राजू कारिया  अपनी नई योजनाओं के साथ फिल्म निर्माताओं में एक नई चेतना का संचार कर रहे हैं।
आज हिंदुस्तान का बडे से बडा और छोटे से छोटा व्यापारी इसी बात से फिक्रमंद हैं की आगे क्या  ? अब देश की हालत कब और कैसे सुधरेंगी ? इस बात से अब बॉलीवुड भी अछूता नही रहा पिछले कई वक्त से कहीं कोई शूटिंग नही हो रही है। दैनिक मज़दूरी पर काम करने वाले लाखों टेक्निशियंस, जूनियर आर्टिस्ट सब इसी कशमकश में  फंसे हैं  की अब आगे बॉलीवुड का भविष्य  क्या होगा और कैसे परिस्थितियां अनुकूल होगी। देश के हर क्षेत्र में सोशल वर्कर क्रियाशील हैं।साथ ही साथ देश के महान उद्योगपती रतन टाटा ,अली प्रेमजी जैसे महान दाता तथा बॉलीवुड भी के अमिताभ बच्चन , सलमान खान, अक्षय कुमार  आमीर खान हो या खेल जगत के महेंद्र सिंह धोनी जैसे  खिलाड़ी सब के सब अपने अपने स्तर से देश हित में पूरे जोश के साथ सक्रिय हैं। आज हिंदुस्तान का हर राज्य हर शहर लॉक डाउन का दंश झेल रहा है ।हर शहर मे कर्फ्यू जैसा माहौल है और लोग अपने अपने घरों मे कैद हैं। वहीं स्थानीय स्तर पर कुछ लोग अपनी जान जोखिम में डालकर किस तरह आम जनता को मदद पहुंचा रहे है इस बात से हर कोई  वाकिफ़ है ।आज केंद्र की सरकार हो या राज्य की सरकार बस इसी कोशिश में लगी है कि विश्व व्यापी महामारी 'कोरोना' वायरस का कैसे मुकाबला किया जाय और प्रतिफल स्वरूप उपजे आर्थिकइ संकट से कैसे निज़ात पाया जाय।
                कोरोना वायरस के कारण लॉक डाउन का प्रभाव सबसे अधिक बॉलीवुड की अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाला है।अनुमान लगाया जा रहा है कि फिल्म उद्योग के 500 करोड़ पर कोरोना का संकट अब तक आ चुका है। अगर राष्ट्रव्यापी लॉक डाउन जारी रहा तो बॉलीवुड पर असहनीय आर्थिक बोझ पड़ने वाला है। इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखते हुए, बॉलीवुड के हित में लॉक डाउन के दरम्यान बॉलीवुड के वरिष्ठ पीआरओ राजू कारिया ने कुछ नामचीन फिल्म निर्माताओं के साथ अपने विचार शेयर किए हैं।
कई फिल्म निर्माताओं ने राजू कारिया की योजना के तहत काम करने की स्वीकृति दे दी है। जिन फिल्म निर्माताओं ने लॉक डाउन की समाप्ति के पश्चात फिल्म लांच करने की योजना बना रखी है उनमें भारतीय जनता पार्टी के नेता व फिल्म निर्माता रणजीत शर्मा(फेम-'मुम्बई कैन डांस साला'), हरीश  सपकाले,संदीप शिंदे(फेम- जिस देश में गंगा रहता है) फिल्म-'एक तेरा साथ' के अरशद सिद्दीकी तथा सन्नी कपूर जो पिछले कइ वर्षों से बॉलीवुड मे फिल्म और टी.वी क्षेत्र मे सक्रिय हैं।इन लोगो की वजह से सिने जगत को फिर से चमकाने की उम्मीद फिल्म प्रचारक राजू कारिया ने लगा रखी है। अब बस इंतज़ार है तो 'लॉक डाउन' खुलने का। कयास ये भी लगाया जा रहा है फिर एक बार इतिहास खुद को राजू कारिया के नेतृत्व में दोहराएगा जैसा कि 1988 में राजू कारिया के पीआरशिप में एक ही दिन 15 फिल्मों का मुहूर्त एक साथ हुआ था। शायद एक बार फिर बॉलीवुड की धरती पर कोरोना संकट के बाद धमाल मचाएंगे राजू कारिया। 
80-90 के दशक में बॉलीवुड में बतौर पीआरओ/फिल्म प्रचारक राजू कारिया ने धमाल मचाते हुए अपना एक छत्र राज कायम किया और पीआरओशिप की परिभाषा भी बदल कर दिखाया और एक नया मिसाल कायम करने में कामयाब रहे। अक्षय कुमार , गोविन्दा ,संजय दत्त, रोनित  रॉय और सोनू  निगम  के पर्सनल पीआरओ व हज़ारों फिल्मों के प्रचारक रह चुके राजू कारिया का नाम वर्ल्ड रिकॉर्ड बुक में भी दर्ज़ है और उन्हें फिल्मों के लिए समर्पित भाव से काम करने के एवज़ में राष्ट्रपति अवार्ड से भी सम्मानित किया जा चुका है।
     

संवाद प्रेषक: काली दास पाण्डेय


No comments