'मेरी भाग्य लक्ष्मी’ पारिवारिक-काॅमेडी फिल्म है......... - DIGITAL CINEMA

Header ads


'मेरी भाग्य लक्ष्मी’ पारिवारिक-काॅमेडी फिल्म है.........



***भेंट वार्ता
     ********

                     --------फिल्म निर्माता बाबू राजोरिया

मां  कैला  देवी  फिल्म्स  के  बैनर  तले  निर्मित  नयी  हिन्दी  फिल्म---‘मेरी  भाग्य लक्ष्मी’ कम्पलीट है और यह आगामी 19 जुलाई, 2019 को मुंबई व महाराष्ट्र के सिनेमा घरों में प्रदर्शित होगी। इस फिल्म के लेखक व निर्माता हैं बाबू राजोरिया, जिनकी पिछले दिनों रिलीज व चर्चित फिल्म ‘नागमणि-नाग का गहना’ को सिने दर्शकों ने काफी  पसन्द  किया  था।  हाल  ही  में  निर्माता  बाबू  राजोरिया  जी  के  मुंबई प्रवास पर ‘ड्रीम्स क्रियेशन’ स्टूडियो में हमारी मुलाकात हुई तो हमने उनसे बातचीत की।प्रस्तुत है बात चीत के प्रमुख अंश:

*** बाबू राजोरिया जी,  आपकी दूसरी हिन्दी  फिल्म  ‘मेरी  भाग्य  लक्ष्मी’  भी  कम्पलीट  है। इस फिल्म के बारे में कुछ बताइये...?   
------------मेरी दूसरी हिन्दी फिल्म ‘मेरी भाग्य लक्ष्मी’ सेंसर से पास  हो चुकी है। इसे भी मैंने ‘मां कैला देवी फिल्म्स’ के बैनर तले ही बनाया है। मैं इसका लेखक भी हूं तथा निर्देशक हैं रोमी  खान।  संगीतकार  भावेश सोनी,  गीतकार प्रदीप वर्मा,  एडीटर निधि शर्मा तथा इस फिल्म में नायक की भूमिका मैंने ही निभाई है। इस फिल्म में अभिनेता राघवेन्द्र तिवारी और नवोदित कनिष्का श्री की भी महत्वपूर्ण भूमिका है। आगामी 19 जुलाई, 2019 को यह फिल्म  प्रदर्शित होगी।


***‘मेरी भाग्य लक्ष्मी’ का मुख्य सब्जेक्ट क्या है ?    
---------यह  एक  काॅमेडी  पारिवारिक  तथा  ‘यू’  सर्टिफिकेट  वाली  साफ  सुथरी फिल्म है, जिसमें बेटी बचाओ का स्वस्थ-सामाजिक संदेश दिया गया है। कैसे एक बेटी परिवार में एकता बनाये रखती है, कैसे मायके व ससुराल वालों को विपरीत परिस्थितियों में भी प्यार व एकता के सूत्र में पिरोती है, यही इसका मुख्य कथानक  है।मुझे इस फिल्म से काफी उम्मीद है।


***आपकी आगामी प्लानिंग क्या है  ?    
--------  मेरी आगामी  नयी  फिल्म  होगी  ‘फूकन’।  इसके  लेखक-निर्देशक  होंगे प्रीति-प्रकाश जो ‘नागमणि' की हिट जोड़ी है। इस फिल्म के मुख्य कलाकार  हैं-टीनू  आनन्द,  सयाजी  शिंदे,  सुधा  चन्द्रन,  सुनील  पाल, रूशद राणा, संदीप बोस, नवोदित आदित्य माली आदि। जल्दी ही इस फिल्म  की  शुरुआत  होगी।  मैं  हमेशा  ही  साफ-सुथरी,  पारिवारिक, मनोरंजक  फिल्में  बनाना  चाहता हूँ।  ‘फूकन’  भी  एक  नये  विषय  पर आधारित स्वस्थ-मनोरंजक फिल्म होगी।



प्रस्तुति : काली दास पाण्डेय


No comments