‘नेवर गिव अप’ एक मनोरंजक फिल्म है - DIGITAL CINEMA

Header ads


‘नेवर गिव अप’ एक मनोरंजक फिल्म है


इण्डियन सिनेमा मेकर्स द्वारा प्रस्तुत हिन्दी फिल्म ‘नेवर गिव अप’‘नेवर गिव अप’‘नेवर गिव अप’‘नेवर गिव अप’ पिछले दिनों गोरेगांव (मुंबई) स्थिति थिएटर ‘मूवी स्टार’ में भव्य तरीके से रिलीज हुई। इसके साथ ही यह फिल्म आॅल ओवर इंडिया भी प्रदर्शित की गयी। इस फिल्म के निर्माता शलाका मिलिंद निकम व उमेश काबरे  हैं  तथा  निर्देशन  किया  है  उमेश  काबरे  ने।  कथा-पटकथा  ऋता  विनीत  कोचरेकर, संगीतकार सिद्धार्थ बोस, रितेश कुमार नलिनी व गीतकार अनन्या बोस, राकेश सिंह, एडीटर बकुल बोरा हैं। इस फिल्म के मुख्य कलाकार हैं-सरीश काननूगो, अरी दबास, पिक्सी महाजन, अक्षता दयाल मल्होत्रा, पियूष घोष, योगिता चैधरी, रत्नेश रूप श्रीवास्तव, शाॅकी सैनानी।  इस फिल्म की कहानी शुरु होती है फिल्म के नायक पीटर (अरी दबास) के इंट्रोडक्शन से, जो अपने  टाऊन  का  एक  मशहूर  वकील  है।  उसकी  गर्लफ्रेन्ड  है  निशा,  जो  कि  कैंडी  (अक्षता दयाल मल्होत्रा) की काॅलेज की दोस्त है। कैंडी इवेंट मैनेजमेंट कम्पनी की ओनर है। कैंडी के सपने बड़े हैं।  डेविड (सरीश कानूनगो) एक बिजनेस टायकून है। एक पार्टी में डविड, जैनेट (पिरि) को डांस करते हुए देखता है और उससे प्यार करने लगता है। दोनों शादी कर लेते हैं। जैनेट शादी के बाद डेविड से धोखा करके प्यार का चक्कर पीटर से चलाती है। जब डेविड को यह बात पता चलती है तो उसका खून खौल उठता है और वह एक घटनाक्रम को मोड़ देता है। आगे क्या  होता  है,  दर्शकों  को  फिल्म  देखकर  ही  पता  चलेगा।  फिल्म  एक  मर्डर  मिस्ट्री  है  और मनोरंजक है। फिल्म के गीत व संगीत ठीक है। इस फिल्म को आॅल ओवर इंडिया मित्तल एडवरटाइजिंग व डिस्ट्रीब्यूशन द्वारा कुल 200 थिएटरों में एक साथ रिलीज किया गया है।  


संवाद प्रेषक: काली दास पाण्डेय


No comments