चर्चाओं के बीच : संगीत निर्देशक सुधाकर स्नेह - DIGITAL CINEMA

Header ads


चर्चाओं के बीच : संगीत निर्देशक सुधाकर स्नेह


वर्तमान समय में जहां पूरा विश्व कोरोना की भयंकर आपदा से जूझ रहा है और भारत का बॉलीवुड कोरोना के कारण जारी राष्ट्रव्यापी लॉक डाउन से बुरी तरह से प्रभावित हुआ है वैसे में कला के महान साधक रूहानी संगीतकार, गायक, गीतकार, निर्माता, निर्देशक सुधाकर स्नेह इन दिनों जन जागरूकता अभियान के तहत लगातार अपने गीत-संगीत से  लोगों का मनोबल बढ़ा रहे हैं। इनके द्वारा जारी गीत  'हम में है दम..' व भारत हैं हम...' के बाद कोरोना वारियर्स को समर्पित गीत 'देश के प्रहरी तुम्हें नमन..' इसी हप्ते रिलीज़ हो रही है। यहाँ उल्लेखनीय है कि सुधाकर स्नेह के गीत 'जय हो उत्तर प्रदेश..' को इसी वर्ष  मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी और महामहिम राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने ऑफिसियली एक भव्य कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश स्थापना दिवस पर राज्य को समर्पित किया था। बिहार राज्य के एक छोटे से कस्बे ग्राम-पंचायत बिमान (शेखपुरा-मुंगेर) की मिट्टी से निकलकर माया नगरी मुंबई को सुधाकर स्नेह ने अपना कर्मभूमि बनाया और बग़ैर किसी गॉडफादर, सपोर्ट और समुचित मार्गदर्शन के अपनी लगन और मेहनत से अपना एक अलग मकाम बनाते हुए संगीत और सिनेमा के क्षेत्र में सतत नाम रौशन कर रहे हैं।
               ग्रामीण परिवेश में पले-बढ़े सुधाकर स्नेह के परिवार में गीत-संगीत से दूर-दूर तक का कोई नाता नहीं था फिर भी इनका रुझान बचपन से ही संगीत, साहित्य, आध्यात्म और अभिनय की तरफ रहा लिहाज़ा संगीत की शिक्षा के साथ-साथ पोस्ट ग्रेजुएशन फिलॉसॉफी से की और कॉलेज के दौरान से ही थियेटर में भी सक्रिय रहे और ड्रामेटिक्स में भी डिप्लोमा किया।  शास्त्रीय संगीत के प्रकांड विद्वान् विश्वविख्यात सारंगी नवाज़ पंडित राम नारायण और प्रख्यात सरोदवादक पंडित ब्रिज नारायण के शागिर्द रह चुके सुधाकर स्नेह अपने एक अनोखे कांसेप्ट 'साज़ क़लम आवाज़' के माध्यम से सांस्कृतिक हलकों में अपनी गतिविधियां बनाये रखते हैं, समय समय पर आयोजित होने वाले इनके इस कार्यक्रम में हिन्दुस्तान के तमाम उस्ताद म्यूजिशियन, शायर और सिंगर शिरकत करते हैं। ग़ज़ल गायकों व शायरों को समर्पित कार्यक्रम 'मैं ग़ज़ल हूँ' इनके सफल कार्यक्रमों में से एक है। सेना दिवस पर जारी इनका गीत 'जय जवान जय जय जवान...' काफी मक़बूल हुआ जिसके लिए वायुसेना प्रमुख के द्वारा इनको सम्मानित भी किया जा चुका है। बुलंद आवाज़ के धनी और गुणी संगीतकार सुधाकर स्नेह के गाये तमाम मन्त्रों और भजनों को यू-ट्यूब पर करोड़ो लोगों ने देखा और सराहा है बॉलीवुड के लगभग बड़े सिंगर्स ने इनके संगीत निर्देशन में अपनी आवाज़ दी है।
                        सुधाकर स्नेह आकाशवाणी और दूरदर्शन पर भी एक्टिव रहे हैं, इन्होंने दूरदर्शन के साथ प्राइम रिएलिटी शो 'झूमें नाचें गायें' बनाया जिसमें इनका साथ नृत्य निर्देशिका सरोज खान और दूसरे कई हॉलीवुड सेलेब्रिटीज़ ने भी दिया। इस शो के प्रतिफल स्वरूप उभर कर सामने आने वाले कुछ  सिंगर्स आज वॉलीवूड के सेलेब्रिटी सिंगर हैं । इसके साथ ही इन्होंने दूरदर्शन के लिए ही सूफ़ियाना कलाम पर आधारित कार्यक्रम 'क़लाम सूफ़ियों के नाम' बनाया जिसमें इनको सूफ़ी संगीत पर विस्तार से काम करने का मौक़ा मिला और जिसके लिए सैंकड़ों नई सूफ़ियाना क़लाम की धुनें भी बनाई। इन्होंने मुम्बई में 'मेलोडीमैक्स' नामक म्युज़िक कंपनी, प्रोडक्शन हाउस और इन हॉउस एक शानदार स्टूडियो की स्थापना भी की है। फिलवक्त सुधाकर स्नेह संगीत निर्देशन के क्षेत्र में काफी सक्रिय हैं।

संवाद प्रेषक: काली दास पाण्डेय


No comments