सुपर स्टार राजेश खन्ना के जन्म दिन(29 दिसम्बर) पर खास.......**** आनंद मरते नहीं.............!** - DIGITAL CINEMA

Header ads


सुपर स्टार राजेश खन्ना के जन्म दिन(29 दिसम्बर) पर खास.......**** आनंद मरते नहीं.............!**


हृषिकेश मुखर्जी ने एक कालजयी फिल्म बनाई थी-'आनंद'।इस फिल्म का केंद्रीय चरित्र था एक कैंसर का मरीज और उसका नाम था 'आनंद'।इसी फिल्म में अमिताभ बच्चन बने थे डॉ भास्कर बनर्जी। आनंद एक खिलंदड़ खुश मिज़ाज किस्म का आदमी था।अपनी मौत से बेपरवाह ज़िन्दगी के हर लम्हे को जी लेने वाला।इस चरित्र को साकार किया था राजेश खन्ना ने जो फिल्मों के पहले और आखिरी सुपर स्टार थे।
राजेश खन्ना ने लगभग 185 फिल्मों में काम किया था और किसी फिल्म अभिनेता ने वह क्रेज कभी पैदा नहीं किया जो इस शख्स ने किया था। सदी के महानायक कहे जाने वाले अमिताभ बच्चन को भी संभवतः यह गरिमा नसीब नहीं हुई होगी जो राजेश खन्ना को सहज ही मिली थी।
             युनाइटेड फिल्म प्रोड्यूसर्स की तरफ से एक फिल्म बनी थी 'राज' जिसमें उन्होंने पहली बार अपनी झलक पेश की वैसे उनकी पहली बार साइन किया था वो 'आखिरी खत' थी।शक्ति सामंत की फिल्म-'आराधना' ने तो उन्हें लोकप्रियता के शिखर पर खड़ा कर दिया और भारतीय फिल्म जगत को पहला सुपर स्टार मिला। आपने सुना ही होगा कि लड़कियां अपने सपनों के राजा राजेश को चूमने की ख्वाइश उनकी गाड़ी को चूम कर पूरी करती थी। रोमांस जैसे राजेश खन्ना के अंग अंग से निर्झर बहता था।
                           आराधना,दो रास्ते,कटी पतंग, आन मिलो सजना, आनंद,बावर्ची, सच्चा झूठा, अमर प्रेम,नामक हराम,रोटी,इत्तेफाक,द ट्रेन, दाग,आप की कसम,अमर दीप, थोड़ी सी बेवफाई,दर्द,भोला भाला,महाचोर, आशिक हूँ बहारों का,जनता हवलदार, प्रेमनगरअवतार,अमृत,सौतन,मकसद,निशान,राजपूत और बेवफाई उनकी सुपर डुपेर फिल्में हैं जिनसे फिल्म के दर्शक हमेशा ही बावस्ता रहेंगे।
                   अपनी आंखों देखी बात बता रहा हूँ। फिल्म-'महबूबा' की शूटिंग नटराज स्टूडियो में चल रही थी और फ्लोर के बाहर एक साथ नौ प्रोड्यूसर्स राजेश खन्ना से अपनी फिल्म के लिए डेट्स लेने सभी पंक्तिबद्ध खड़े थे।आज 29 दिसम्बर को राजेश खन्ना के जन्म दिन है और मैं उनकी याद में ये पंक्तियां श्रद्धा के फूल मानिंद पेश कर रहा हूँ।


प्रस्तुति: अरुण कुमार शास्त्री



No comments