संदेशपरक फिल्म--'चिकनकरी लॉ' - DIGITAL CINEMA

Header ads


संदेशपरक फिल्म--'चिकनकरी लॉ'


आशुतोष राणा, मकरंद देशपांडे, ज़ाकिर हुसैन, नतालिया और निवेदिता भट्टाचार्य के दमदार अभिनय से सजी फ़िल्म 'चिकनकरी लॉ' के लेखक और निर्देशक शेखर सिरिन हैं. शेखर ने भारत की शान को चोटिल करने वाले कुकृत्यों (रेप) के खिलाफ यह फ़िल्म बनाई है जिससे विदेशी लोग खासकर महिलाएं जो यहाँ पर्यटक बनकर या फिर बॉलीवुड में कैरियर बनाने के लिए आती हैं, बाद में वह किस तरह विकृत मानसिकता के लोगों के द्वारा रेप का शिकार हो जाती है, अपनी अस्मिता लूटने पर न्याय पाने के लिए उसे संघर्ष करना पड़ता है. और हमारी कानून व्यवस्था के कारण उन्हें क्या क्या तकलीफ का सामना करना पड़ता है जिसमें वकीलों के कठोर शब्दों से दोबारा पीड़िता का इज़्ज़त तार तार होता है, यही फ़िल्म में दिखाया गया है. फ़िल्म में कोर्ट रूम ड्रामा द्वारा न्याय प्रणाली की सच्चाई दिखाने की कोशिश गई है. शेखर ने फ़िल्म की कहानी खुद लिखी है. कहानी और भारत की न्याय प्रक्रिया के मूलभूत रूप को दिखाने के लिए इन्होंने रिसर्च भी किया है, कई केस पर स्टडी की है फिर इसे पर्दे पर उतारा है. यह भले ही शेखर सिरिन की पहली फ़िल्म है पर यह फ़िल्म दर्शकों को जरूर झकझोर देगी उन्हें सोचने पर मजबूर कर देगी. यह फ़िल्म मेकिंग को एक नए पड़ाव पर ले कर जाएगी. शेखर सिरिन को संगीत से खास लगाव है, 'चिकनकरी लॉ' फ़िल्म का संगीत इनके द्वारा कहानी के अनुसार तैयार किया गया है, फ़िल्म देखते समय यह अवरोध उत्पन्न नहीं करता. सिचुएशनल गीत है जो फ़िल्म को गति देते हैं, फ़िल्म में चार गानों का संकलन है.इस फ़िल्म का निर्माण सेवन हिल्स सिने क्रिएशन ने किया है तथा पैनोरमा स्टूडियोज द्वारा रिलीज किया जा रहा है.

संवाद प्रेषक: काली दास पाण्डेय




No comments