‘मोक्ष टू माया’ को सभी दर्शक बहुत पसंद कर रहे हैं... --मनोज सिंह (निर्देशक) - DIGITAL CINEMA

Header ads


‘मोक्ष टू माया’ को सभी दर्शक बहुत पसंद कर रहे हैं... --मनोज सिंह (निर्देशक)


अंतरा  क्रिएशंस  एल.एल.पी. कृत  हिन्दी  फिल्म  ‘मोक्ष  टू  माया’ हाल  ही  में मुंबई सहित सर्वत्र भव्य पैमाने पर प्रदर्शित हुई है। इसके नये एवं अनोखे सब्जेक्ट के कारण इसे दर्शकों का अच्छा रिस्पान्स मिल रहा है, दर्शक इसे काफी पसंद कर रहे  हैं।  हाल  ही  में  इस  फिल्म  के  निर्देशक मनोज  सिंह जी  से  हमारी  मुलाकात अंधेरी (प.) स्थित ‘सिटी माॅल मल्टीप्लेक्स’ में हुई, जहां इस फिल्म का प्रदर्शन जारी है। मनोज जी ने अपनी इस फिल्म को लेकर विभिन्न चर्चा की। प्रस्तुत है निर्देशक मनोज सिंह से हुई बातचीत के प्रमुख अंश.....
**मनोज जी, आपके द्वारा निर्देशित नयी हिन्दी फिल्म ‘मोक्ष टू माया’ भव्य पैमाने पर प्रदर्शित हुई है। इस फिल्म का कैसा रिस्पान्स है दर्शकों के बीच?
-------फिल्म ‘मोक्ष टू माया’ का दर्शकों के बीच काफी अच्छा रिस्पान्स है और इसके नये व अनोखे सब्जेक्ट के कारण इसे सभी वर्ग के दर्शक बहुत पसन्द कर रहे हैं....., इस बात से मैं बहुत खुश हूं।
**इस फिल्म की तकनीकी टीम व कलाकारों के बारे में जानकारी दीजिए...?
---------देखिए, हिन्दी फिल्म ‘मोक्ष टू माया’ को अंतरा क्रिएशंस एल.एल.पी. के बैनर तले  बनाया  गया  है,  जिसके  निर्मातागण  हैं  श्वेता  ठाकोर,  नीरज  भारद्वाज, रमेश राजपुरोहित व कृष्णा जी। इस फिल्म का निर्देशन मैंने किया है, जबकि लेखक  हैं  कपिल  कौस्तुभ  शर्मा।  संगीतकार  बाबा  जागीरदार,  सिनेमेटोग्राफर धर्मेन्द बिश्वास, एडीटर सुनील बी. प्रसाद एवं नृत्य निर्देशक-रिकी गुप्ता हैं। मुख्य कलाकार हैं-बिदिता वाघ (फिल्म ‘बाबू मोशाय बंदूकबाज’ फेस) मेघना मलिक,  एहसान  खान,  सैय्यद  रज़ा,  नीरज  भारद्वाज,  श्वेता  ठाकोर,  मैत्रिक ठक्कर, अरुणा सिंह, अरुण सिंह, मुणि झा, श्वेता मिश्रा और राज प्रेमी आदि।
**इस फिल्म का मुख्य सब्जेक्ट क्या है?
-----------यह एक लड़की के संघर्ष यात्रा की कहानी है। यह छोटे-छोटे बच्चों के साथ की गयी  ज़्यादती  पर  आधारित  है।  आज  छोटी-छोटी  बच्चियों  के  साथ  बहुत घिनौने अपराध किए जा रहे हैं, उसी पर फोकस करती है इसकी कहानी। इसकी नायिका बिदिता वाघ हैं, जो नवाजुद्दीन सिद्दीकी के साथ फिल्म ‘बाबू मोशाय बंदूकबाज’ में बेहतरीन अभिनय कर चुकी हैं। नायिका के इसमें दो नाम हैं-मोक्ष व माया। कैसे मोक्ष, अपने माया नाम के जरिए अपराधियों को पकड़ कर उन्हें सजा  देती है, यही इसमें दिखाया  गया है।  इस फिल्म  में सामाजिक  कुरीतियों  व  बुराईयों  पर  से  पर्दा  उठया  गया  है  और  फिल्म  के जरिए यह संदेश दिया गया है कि समाज में व्याप्त कुरीतियों व गंदे कामों को रोकना चाहिए। यह फिल्म बहुत ही मनोरंजक बनी है, यही वजह है कि दर्शक इसे बहुत पसंद कर रहे हैं।
**मनोज जी, कृपया अपने बैकग्राउण्ड के बारे में बताइये?
---------मैंने  फिल्म  इंडस्ट्री  के  दिग्गज  निर्देशकों-कल्पतरु,  टी.  रामाराव,  अफजल खान, मुकुल एस. आनंद, आदि के साथ अनेक बड़ी फिल्मों में असिस्टेंट के रूप में काम  किया। ‘घर घर की कहानी’, ‘मां  बेटी’, ‘घर द्वार’, ‘हमशक्ल’ आदि चर्चित फिल्मों से जुड़ा रहा। टी.वी. सीरियल्स ‘अपराजिता’, ‘अर्धांगिनी’, ‘अहसास’, ‘कहीं देर ना हो जाए’ आदि भी निर्देशित किए। ममता कुलकर्णी अभिनीत  ‘दिलबर’  और  ‘महानता’  में  मैं  एसेसिएट  निर्देशक  था।  और  अब आपके सामने ‘मोक्ष टू माया’ लेकर हाजिर हूं।
**‘मोक्ष टू माया’ की शूटिंग आपने कहां-कहां की है ?
  ------------‘मोक्ष टू माया’ की शूटिंग राजस्थान के अलवर, मुंसी रानी छतरी, खैरताल, किशनगंज आदि में की गयी है, क्यांेकि कहानी का बैकग्राउण्ड राजस्थान ही है। इस फिल्म में चार गीत हैं, जो खूबसूरत लोकेशनों पर फिल्माए गए हैं। यहां खास तौर पर बता दूं कि फिल्म ‘मोक्ष टू माया’ बनाने के दौरान मेरी पत्नी आभा सिंह तथा मेरे दोनों बेटों का बहुत ज़्यादा मानसिक सहयोग रहा, मुझे इन सभी ने काफी प्रेरणा दी। चूंकि फिल्म अब सफल जा रही है तो मेरे परिवार वाले भी बहुत खुश हैं।
**आगामी क्या प्लानिंग्स हैं आपकी ?
---------मैं हमेशा ही नए व बेहतरीन सब्जेक्ट के साथ अच्छी, सार्थक मनोरंजन वाली फिल्में बनाना चाहता हूं.... 3-4 नयी फिल्मों की प्लानिंग्स है। ये फिल्में अभी पाइप लाइन में हैं, फिलहाल इनकी कहानी व स्क्रिप्ट आदि पर काम चल रहा है। वैसे जल्दी ही इनके बारे में घोषणा की जाएगी।   

प्रस्तुति : काली दास पाण्डेय



No comments