'ग्रैंड मस्ती' के बाद 'खली बली' के मूड में कायनात अरोरा - DIGITAL CINEMA

Header ads


'ग्रैंड मस्ती' के बाद 'खली बली' के मूड में कायनात अरोरा


कायनात अरोरा सहारनपुर जैसे छोटे शहर से बॉलीवुड आयी एक स्वाभिमानी और बिंदास लड़की है जिसने अक्षय कुमार अभिनीत फ़िल्म 'खट्टा मिठा' के आइटम सॉन्ग 'अईला रे अईला' से फिल्मों में कदम रखा और बतौर अभिनेत्री पहली फ़िल्म 'ग्रैंड मस्ती' में काम किया जो कि जबरदस्त कामयाब रही। फिर भी उसकी टैलेंट को बड़े मेकरों ने नज़रंदाज़ किया तो वह साउथ की फिल्मों में काम करने लगी। अब एक बार फिर कायनात हिंदी फ़िल्म 'खली बली' से खलबली मचाने बतौर मुख्य अभिनेत्री आ रही है। मनोज शर्मा की फिल्म 'खली बली' हॉरर कॉमेडी फिल्म है इस फिल्म में कायनात संजना की भूमिका में दिखाई देंगी। फ़िल्म की कहानी उनके इर्दगिर्द ही बुनी गई है। उनका किरदार गंभीर है पर फ़िल्म में डर के साथ कॉमेडी का तड़का लगा हुआ है। फिल्म में दूसरी डरावनी कहानियों से अलग सिचुएशनल हॉरर कहानी है।
   फिल्म में रजनीश दुग्गल, मधु, राजपाल यादव, विजय राज, असरानी, हेमंत पांडे, एकता जैन, रोहन मेहरा और यासमीन खान जैसे उम्दा कलाकार अभिनय कर रहे हैं। फिल्म की पूरी कहानी संजना के जीवन में उत्पन्न खलबली पर आधारित है।             
  बता दें कि कायनात अरोरा ने मलयालम के सुपरस्टार मोहनलाल के साथ 'लैला ओ लैला' और तमिल सुपरस्टार अजित के साथ फिल्म 'मंकता' में काम किया है। इसके अलावा कायनात ने बड़े बजट की पंजाबी फिल्म 'फरार' में सुपरस्टार गिप्पी ग्रेवाल के साथ काम किया है। हाल ही में एक और पंजाबी फिल्म 'किटी पार्टी ' में भी उसने काम किया है।
    कायनात का मानना है कि कलाकारों को दर्शकों का सम्मान करना चाहिए। हम उनकी नौकरी कर रहे हैं क्योंकि जिस दिन दर्शक फिल्म देखना बंद कर देंगे, हम जैसे कलाकार बेरोजगार हो जाएंगे। प्रोड्यूसर और डायरेक्टर हमें सिर्फ काम देते हैं परंतु दर्शक हमारे काम को देखकर शिखर पर पहुंचा देते हैं। कायनात को बचपन से ही स्टार बनने का शौक था। वह रोमांटिक स्वभाव की लड़की है जिसे रोमांटिक फिल्में करने की चाहत है लेकिन अलग अलग विषय की स्क्रिप्ट के कारण वह दूसरे किस्म की किरदार निभाते जा रही है।
इसीलिए वह कहती है कि हम काम को नहीं चुनते बल्कि काम हमें चुनता है।
आज वह इस मुकाम पर पहुंचकर खुद को सफल समझती है और अपेक्षा रखती है कि वह दर्शकों का मनोरंजन करती रहे।



संवाद प्रेषक: संतोष साहू


No comments